Purpose and benefits of facial । फेशियल कराने का उद्देश्य व लाभ

Purpose and benefits of getting facial -

अनेक जिज्ञासु लोग यह जानना चाहते हैं, कि जब वे फेशियल कराने किसी सलून या ब्यूटी पार्लर में जाएं, तो वहां कैसी अपेक्षाएं रखें ?  संभवत वर्तमान में चेहरे आदि की त्वचा के ट्रीटमेंट में सबसे ज्यादा लोकप्रिय फेशियल (facial) ही है, जो त्वचा को सुरक्षा (प्रोटेक्शन), मेंटीनेंस व इंप्रूवमेंट करता है। आधुनिक काॅस्मेटिक थेरेपिस्ट (सौन्दर्य चिकित्सक) की सबसे पहली जिम्मेदारी बनती है कि वह स्किन टाइप (त्वचा का प्रकार) और उसे किस तरह के ट्रीटमेंट की जरूरत है, की पहचान कर सके। Facial में विभिन्न प्रोसिजर (प्रक्रम) शामिल होते हैं, लेकिन इसका मुख्य उद्देश्य फेशियल मसाज ही होता है।

Purpose of facial

स्किन (त्वचा) पर हुए अनेक महत्वपूर्ण रिसर्च से पता चलता है कि फेशियल के अनेक लाभ होते हैं जिनमें शारीरिक और मनोवैज्ञानिक लाभ, दोनों शामिल हैं; बशर्ते फेशियल करने का तरीका सही होना चाहिये और फेशियल में उपयोग आने वाले प्रोडक्ट हानि रहित व उच्च गुणवत्ता वाले होने चाहिये। 

यह skin को, व skin के function को ज्यादा प्रभावशाली ढंग से संचालित करने में सहायता करता है और उम्र बढ़ने के कारण त्वचा पर पड़ने वाले प्रभाव को रोकता है। मेरे विचार से फेशियल कराने का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह निश्चित रूप से त्वचा को युवा बनाए रखने के गुण का बरकरार करता है, तथा उसे सुरक्षित बनाता है। इतना ही नहीं, फेशियल  त्वचा को कोमल व मुलायम बनाते हुए बुढ़ापे के चिन्हों जैसे झुर्रियों, कड़ापन व रेखा को हटाता है। फेशियल कराने से स्किन और त्वचा पेशियाँ व ऊतक, ये सब टोन्ड होते हैं, इसलिए यह स्थिरता और लचीलापन बनाए रखता है। 

फेशियल से स्किन की डिप क्लिजिंग में भी मदद मिलता है और त्वचा की आन्तरिक सतह का रक्त संचार बढ़ाता है व समायोजित होता है। फेशियल से लिम्फैटिक सर्कुलेशन टॉक्सिन और वेस्ट (हानिकारक पदार्थ) को निकालने में सहायता मिलता है।

फेशियल कराने से त्वचा का एसिड-अल्कालाइन बैलेंस के साथ ही ऑयल माॅइश्चर बैलेंस भी कायम बना रहता है। फेशियल त्वचा विश्राम देता है, जो स्ट्रेंस और थकान दूर करने में सहायक है। 25 वर्ष की उम्र के बाद सप्ताहिक फेशियल बढ़ती उम्र के लक्षणों को रोकने में सहायता कर त्वचा की खूबसूरती को बनाए रखता है।

फेशियल में चेहरे और गले के पूरे क्षेत्र को जरूरत के हिसाब से ट्रीट किया जाता है। उदाहरण के लिए, आंखों के आस-पास की स्किन पतली और नाजुक होती है, अतः यहां बहुत हल्के स्पर्श, अंगुलियों के खास डायरेक्शन और मूवमेंट की आवश्यकता होती है। अनेक स्ट्रोक्स, मूवमेंट, डायरेक्शन और प्रेशर (दाब) को विभिन्न भागों में आवश्यक्तनुसार अप्लाई किया जाता है।

फेशियल में एलोवेरा की उपयोगिता -

फेशियल ट्रीटमेंट का उद्देश्य deep-clanging और प्रोटेक्शन है। अधिकांश फेशियल कर्ता क्लींजर कटिंग वाले एलोवेरा का प्रयोग करते हैं, जो त्वचा को क्लिंजींग के साथ रिहाइड्रेट करता है। अगर आपकी त्वचा अधिक सेंसटिव है तो इसमें हीलिंग एक्शन (ठण्डा करने का गुण) भी होता है। यह डेड स्किन सेल्स (मृत त्वचा कोशिकाओं) को हटाता है और सभी गंदगी के साथ उन्हें निकालने को आसान करता है। इससे सामान्य एसिड-अल्कालाइन बैलेंस रिस्टोर होता है और त्वचा के सामान्य फंक्शन में भी सुधार होता है। 

खासतौर से सेल्स (कोशिकाओं) के रिन्यूवल और माॅइश्चर को बनाए रखने में मदद करता है। डीप पोर क्लींजिंग और डेड स्किन सेल्स को रिमूव के लिए स्क्रब्स और छिलकों के साथ इससे एक्सफोलिशन किया जाता है। यह दाग-धब्बों जैसे- त्वचा के डार्क पैचेस और स्पॉट्स को कम करने में मदद करता है। 

फेशियल में मसाज की उपयोगिता -

क्लींजिंग के बाद प्रायः फेशियल मसाज किया जाता है, जो स्किन के सामान्य फंक्शन को बढ़ाने (इम्प्रूव) करने में सहायता करता है। साथ ही स्किन के सहायक टिशू (ऊतकों) को मजबूती प्रदान करता है। यह स्किन को मजबूत, नर्म और कोमल बनाते हुए इसके लचीलापन को भी बढ़ाता है। 

त्वचा के विशेष क्षेत्रों के लिए अलग-अलग मसाज तकनीक अपनाई जाती है। जैसे आंखों के आसपास की कोमल त्वचा का अलग मसाज। मसाज से ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है और हल्की मात्रा में लसिका निकलता है, जो टॉक्सिंस (हानिकारक पदार्थ) को बाहर निकालने में सहायता करता है। 

उच्चस्तरीय फेशियल सलूनों व ब्यूटी पार्लरों में ऑयली स्किन (तैलीय त्वचा) और उससे संबंधित कंडीशन (स्थिति) वालों के लिए ऐसी थैरेपी प्रदान की जाती हैं, जो स्किन को प्यूरिफाई करें और जर्मीशिडल इन्वायरमेंट (जीवाणुप्रतिरोधी वातावरण) बनाएं। Rose skin tonic प्रायः त्वचा को टोन करने के लिए खास तकनीक द्वारा प्रयोग किया जाता है। 

मास्क में क्लींजिंग प्रोसेस को पूरा करने के लिए और सेल रिन्यूवल को इंप्रूव करने के लिए हर्बल सामग्रियों का प्रयोग किया जाता है। 

त्वचा की ताजगी और स्वास्थ्य; त्वचा की कोशिकाओं के प्रभावशाली रिन्यूअल (नये निर्माण) पर निर्भर करता है। फेशियल ट्रीटमेंट के दौरान स्पेशल गैजेट्स (विशेष साधन) का भी प्रयोग किया जाता है, जो स्क्रीन की समावेशन की क्षमता को बढ़ाता है जिससे उत्पाद स्किन में अच्छी तरह समाहित हो सकें। 

फेशियल मसाज के अंत में स्किन को टोन करने के लिए कोल्ड कंप्रेस भी दिया जाता है उसके बाद प्रोटेक्टिव क्रीम व मॉइश्चराइजर आदि लगाया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ