Benefits and Methods of Bath Salt । बाथ साल्ट (नमक स्नान) के फायदे व विधि

Benefits / Methods of  Bath Salt

Dear reader ! आप और अधिकांश लोग बाथ साल्ट (Bath Salt) का नाम अवश्य सुने होगें, लेकिन यह क्या होता है, यह शायद बहुत कम लोगों को पता हो। इस लेख में हमने Bath Salt के बारे में विस्तार से वर्णन किया है और अधिकांश तथ्यों को सहजता से समझाने का प्रयास किया है।

Bath Salt को हिन्दी भाषा मेॅ "नमक/लवण स्नान" कहा जाता है, अत: इस शब्द का आशय स्पष्ट है कि यह शब्द लवणयुक्त जल से स्नान को सम्बोधित कर रहा है।

Benefits  Methods of  Bath Salt

बाथ साल्ट ((लवणीय स्नान)) का चलन वास्तव में प्राचीन समय से प्राकृतिक झरनों या गर्म झरनों से हुआ है, जिनसे लोग लगातार स्वास्थ्य लाभ लेते रहे हैं। प्राचीन सभ्यताओं में भी उपचारात्मक, यहां तक कि सौंदर्य लाभ के लिए स्नान में बाथ साल्ट यानी नमक वाले पानी का प्रयोग करते थे। जाहिर तौर पर अब वर्तमान में यह बाथ एडिटिक्स के रूप में मिलते हैं, जिसे नहाने के पानी में मिला लिया जाता है। साल्ट (साधारण नमक) के अलावा आज के बाथ साल्ट में कई दूसरी सामग्रियां भी मिली होती हैं, जैसे फ्रेगरेंस और तेल जो बाथ एक्सपीरियंस (अनुभव) को ज्यादा इंजॉयबल (आनन्दायक) और लग्जुरियस (सुविधायुक्त) बनाते हैं । बाथ साल्ट तब ज्यादा फायदा पहुंचाता है, जब आप बाथ साल्ट युक्त बाथ टब में खुद को तरबतर करते हैं।

Benefits of Bath Salt

बाथ साल्ट (लवणीय स्नान) का फायदा यह है कि इससे आपका मस्क्युलर टेंशन (पेशीय तनाव) कम होता है और थकान दूर होती है। साथ ही यह बॉडी (शरीर) और माइंड (दिमाग) को रिलैक्सेशन (आराम) देता है। इनके अलावा सबसे महत्वपूर्ण, यह क्लीन और तरोताजा होने का एहसास कराता है। साथ ही यह शरीर के टॉक्सिंस (अशुद्धि/हानिकारक पदार्थ) को हटाने में सहायता करता है, जो बाथ साल्ट के प्रिपरेशन में मौजूद कुछ एसेंशियल ऑयल के कारण होता है। बाथ साल्ट में मिलाई गई सामग्रियों में औषधीय गुण होते हैं, जो दर्द और सूजन को कम करते हैं और अन्य रोगों से राहत पहुंचाते हैं।

साथ ही बाथ साल्ट से सौंदर्य लाभ भी मिलता है। यह त्वचा को साफ और नरिश करता है। इसमें मौजूद कुछ सामग्रियां त्वचा की निरर्थक व मृत परत उतारती हैं और नए स्किन सेल्स (त्वचा कोशिकाओं) को stimulet (उत्पन्न) करती हैं। बाथ साल्ट त्वचा में नयेपन का आभास कराता है, जिससे त्वचा सॉफ्ट, स्मूद (चिकनी), क्लिन और ब्राइट हो जाती है। वास्तव में यह त्वचा की यूथफुल क्वालिटी (यौवन गुण) को प्रोटेक्ट करने व बढ़ाने में सहायता करता है। 

Bath Salt Recipe

आप बाथ साल्ट खरीद सकते/सकती हैं, जिसमें कलर और फ्रेगनेंस दोनों हों। लाइटर फ्रेगनेंस सबसे बेहतर होता है, जो ओवरपावरिंग न हो।

वर्तमान में जिस बाथ साल्ट का प्रयोग किया जाता है वह आमतौर पर सामान्य साल्ट के क्रिस्टल (सोडियम क्लोराइड), एप्सम साल्ट, बायोकार्बोनेट सोडा (बेकिंग सोडा), बोरेक्स आदि होते हैं। 

घर पर ही खुद का बाथ साल्ट बनाना बहुत आसान होता है। केवल दो टेबलस्पून साल्ट क्रिस्टल को बाथ वाटर (नहाने का पानी) में एसेंशियल आयल के साथ डालें। जिस तेल का आप प्रयोग करेंगे वह सिनेमाॅन ऑयल, लेवेंडर ऑयल, रोज आयल, जिरेनियम, निरोली या यूकेलिप्टस ऑयल आदि हो सकते हैं ।

5 बूंद एसेंशियल ऑयल को शुद्ध ऑलिव ऑयल में मिलाएं और फिर इसे नमक के साथ पानी में डालें। सिनेमाॅन ऑयल थकान और मस्क्यूलर टेंशन से राहत देता है। वही लेवेंडर से रिलैक्सेशन मिलता है। रोज आयल के बारे में कहा जाता है कि इसका मस्तिष्क पर अद्भुत शीतलकारी प्रभाव पड़ता है। साथ ही यह त्वचा के ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है। यूकेलिप्टस ऑयल इन्फ्लेमेशन को कम करता है । ऑलिव आयल आमतौर तौर पर बॉडी के लिए आइडियल है, क्योंकि यह त्वचा को नरिश और साफ्ट बनाता है।

Ingredients for Bath Salts

1. सामान्य नमक / सोडियम क्लोराइड
2. एप्सम साल्ट
3. बेकिंग सोडा/ सोडियम बायकार्बोनेट
4. बोरेक्स
5. मिल्क पाउडर
6. एसेंशियल ऑयल
7. ऑलिव ऑयल
8. सिनेमाॅन ऑयल
9. लेवेंडर ऑयल
10. रोज ऑयल
11. जिरेनियम 
12. निरोली या यूकेलिप्टस ऑयल
13. आमंड (बादाम) ऑयल
14. गुलाब की कुछ पत्तियां व पंखुड़ियां
15. ओटमील
16. Clean cotton cloth.

बाथ साल्ट बनाने की वे विधियां जिन्हें आप घर पर ही बना सकते/सकती हैं :-

1. नूरजहां रोज पेटल बाथ -  

(बेगम नूरजहां को गुलाब-जल की खोज का श्रेय दिया जाता है।) एक कप मिल्क पाउडर, नमक, गुलाब की पत्तियां व पंखुड़ियां, 5 बूंद रोज एसेंशियल ऑयल, 2 टेबलस्पून शुद्ध आमंड (बादाम) ऑयल; इन्हें टब के पानी में डालें और कुछ देर बाद उस पानी से स्नान करें।

2. एक कप मिल्क पाउडर, एक कप सोडियम बायकार्बोनेट और एक टेबल स्पून आमंड (बादाम) ऑयल। इन सब को गर्म पानी में अच्छी तरह मिलाएं या घोलें और पानी के टब में डालें।

3. एक कप मिल्क पाउडर, तीन टेबल स्पून बेसन, तीन टेबल स्पून बाइकार्बोनेट सोडियम, पॉंच बूंद एलोसवुड (काष्ठ) ऑयल। पहले तीन सामग्रियों को पोटली में बांध लें और उन्हें फिर पानी में डालें । फिर ऐलोसवुड ऑयल को सीधे पानी में डाल दें।

4. डेढ़ कप एप्सम साल्ट, 3/4 कप सोडियम बाइकार्बोनेट ,सूखे गुलाब की कुछ पत्तियां व पंखुड़ियां, ओटमील; इन सभी चीजों की पोटली बनाएं और पानी से भरे तब में डालें अथवा इसको पाउडर बनाकर सीधे पानी में मिलाएं।

Methods of Bath Salt

बेहतर परिणाम के लिए सुझाव दिया जाता है कि बाथ साल्ट सामग्रियों को टब में नहाने के पानी में डाले और उसमें लगभग 20 मिनट तक सोक करें या शरीर को तर करें, इसके बाद हल्के गर्म पानी से शरीर को धो लें।

अगर आप टब बाथ नहीं ले सकते/सकती, तो बाथ साल्ट सामग्रियों को साफ कपड़े में पोटली की तरह बांधे और फिर उस पोटली को बाॅडी (शरीर) पर रगड़ें या सामग्रियों को आपस में मिलाकर डायरेक्ट धीरे-धीरे शरीर पर रगड़ें पूर्ण नहाते वक्त इन्हें अच्छी तरह धो दें।

Conclusion-

इस लेख में हमने बाथ साल्ट को बनाने की विधि, उसे बनाने में लगने वाली सामग्री, उसके स्नान की विधि और उससे होने वाले फायदे का वर्णन किया है। हमें आशा है कि आप इस लेख की मदद से बाथ साल्ट के बारे में ज्ञान प्राप्त किए होंगे और इसका लाभ उठाएंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ