सेब खाने के फायदे । 10 Special Benefits of Eating Apple

सेब खाने के फायदे !

Hi, इस लेख में हमने सेब (Apple) के 10 महत्वपूर्ण गुणों का वर्णन किया है। आप इस लेख की सहायता से सेव के 10 महत्वपूर्ण गुणों को जान सकेंगे और उसका लाभ उठा सकेंगे। 

apple eating

"An apple a day, keeps the doctor away " अर्थात् प्रतिदिन एक सेब आपको डॉक्टर से दूर रख सकता है - कहावत आमतौर पर अधिकांश लोग जानते ही हैं, लेकिन सेब का स्वास्थ्य पर वास्तविक प्रभाव क्या होता है, कम ही लोग जानते हैं। सेब खाने के 10 महत्वपूर्ण लाभ जिनके द्वारा यह पुरानी कहावत आज भी प्रासंगिक बनी रहती है, इस लेख में हमने उसका वर्णन किया है।

10 Special Benefits of Eating Apple

1. डायबिटीज मैनेजमेंट/मधुमेह पर प्रबंधन के लिए सेब

सेब नामक फल में मौजूद पेक्टिन शरीर को गालैक्ट्युरोनिक एसिड के निर्माण को बढ़ाता है, जो शरीर की इंसुलिन की आवश्यकता को कम करता है, और इस प्रकार सेब डायबिटीज मैनेजमेंट में भी सहायता करता है। इसलिए मधुमेह के रोगियों को प्रतिदिन सुबह-शाम दो-दो सेब खाने की सलाह दी जाती है ताकि मधुमेह रोग से जल्दी छुटकारा मिल सके।

2. कोलोन (बड़ी आंत्र) व लीवर कैंसर से बचाव के लिए सेब 

वैज्ञानिक ने अध्ययनों में पाया कि जिन चूहों को सेब के छिलकों का सत् खिलाया गया, उनमें 43% तक आंत्रीय कैंसर का खतरा नहीं हुआ। 

दूसरे वैज्ञानिक शोध के अनुसार सेब में मौजूद पेक्टिन कोलोन कैंसर (आंत्रीय कैंसर) के खतरे को कम करता है और हेल्दी डाइजेस्टिव ट्रैक्ट (स्वस्थ पाचन नाल) को मेंटेन करने में मदद करता है। 

चूहों पर किए गए एक तीसरे शोध में पाया गया कि सेब के छिलके के सत् को खाने वाले चूहों में लिवर कैंसर का खतरा 60% तक कम हो गया।

भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के अनुसार प्राचीन काल से ही पाचन तंत्र को मजबूत व स्वस्थ बनाए रखने के लिए प्रतिदिन भोजन करने से दो घंटे बाद एक या दो सेब खाने की सलाह दी जाती है।

3. फेफड़ो (Lungs) के कैंसर से बचाव के लिए सेब 

फिनलैंड नामक देश में 10000 लोगों पर किए गए एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, जिन लोगों ने ज्यादा से ज्यादा मात्रा में सेब खाए, उन्हें फेफड़ों का कैंसर होने का खतरा 50 % तक कम हो गया। शोधकर्ता इसका कारण सेब में पाए जाने वाले उच्चस्तरीय फ्लेवोनॉयड क्वेरसेटिन और नारिगिन नामक रसायन को मानते हैं। अतः प्रतिदिन सेब खाने से या उसका ताजा जूस पीने से फेफड़ों के कैंसर से बचा जा सकता है और फेफड़ों के कैंसर के रोगियों की स्थिति में सुधार होता है ।

4. स्तन कैंसर से बचाव के लिए सेब 

कार्नेल यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि जो चूहे प्रतिदिन एक सेब खाते थे, उनमें ब्रेस्ट (स्तन) कैंसर का खतरा 18% तक कम हो गया। जिन चूहों को प्रतिदिन 3 सेब खिलाए गए, उनमें स्तन कैंसर का खतरा 37% तक कम हो गया और वहीं जिन चूहों को प्रतिदिन 6 सेब खिलाया गया, उनमें स्तन कैंसर का खतरा 44% तक कम हो गया। 

आयुर्वेद के अनुसार आज वर्तमान में स्तन कैंसर के रोगियों को अधिक मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है और इससे रोगियों को फायदा भी होता है, क्योंकि सेब में रक्त शोधन का अद्वितीय गुण होता है।

5. कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए सेब 

सेब में पाया जाने वाला पेक्टिन, LDL or Bed कोलेस्ट्रॉल को प्रभावी ढंग से कम करता है। प्रतिदिन दो सेब खाने की शुरुआत से मोटा व्यक्ति 20% से भी ज्यादा कोलेस्ट्रॉल कम कर सकता है।

6. अल्जाइमर से बचाव के लिए सेब 

कार्नेल यूनिवर्सिटी में चूहों पर किए गए अध्ययन में पाया गया कि सेब में पाया जाने वाला क्वेरेसेटिन नामक रसायन एक तरह के फ्री रेडिकल डैमेज, जो कि अल्जाइमर डिजीज का कारण बनता है, से मस्तिष्क कोशिकाओं को सुरक्षा प्रदान करता है। अल्जाइमर रोग से बचाने में सेब में अद्वितीय गुण पाया जाता है और वर्तमान में अल्जाइमर के अधिकांश रोगी भोजन में सेब का सेवन कर रहे हैं और लाभ प्राप्त कर रहे हैं।

7. हड्डियों की मजबूती के लिए सेब 

फ्रांस के वैज्ञानिक शोधकर्ताओं ने पाया कि फ्लेनाॅइड, जिसे फ्लोरिड्जिन कहते हैं, यह केवल सेब में ही पाया जाता है, दूसरे अन्य फलों में नहीं। यह पोस्ट मीनोपाॅजुअल महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस (अस्थिमृदुता) से भी बचाता है। साथ ही साथ यह बोन डेंसिटी (अस्थि घनत्व) को भी बढ़ाता है, क्योंकि सेब में फास्फोरस होता है जो कैल्शियम के साथ मिलकर अस्थि निर्माण करता है। अर्थात् हड्डियों को मजबूत व सबल बनाता है। सेब में पाया जाने वाला एक और तत्व बोराॅन पाया जाता है जो हड्डियों को एडवांस मजबूती देता है।

8. अस्थमा/दमा से बचाव के लिए सेब 

अस्थमा/दमा से ग्रस्त बच्चों पर हुए अमेरिका के नेशनल लन्ग एंड हार्ट इंस्टीट्यूट में हुए शोध के अनुसार, अस्थमा से ग्रस्त जिन बच्चों ने प्रतिदिन सेब के जूस का सेवन किया, उन्हें अस्थमा से ग्रस्त उन बच्चों की तुलना में, जिन्होंने महीने में केवल एक बार सेब के जूस का सेवन किया, सांस की तकलीफ में कमी हुई। 

एक दूसरे शोध के अनुसार, जिन शिशुओं की माताएं गर्भावस्था के दौरान ज्यादा से ज्यादा सेब का सेवन किया, उन्हें अस्थमा होने का खतरा बहुत कम हो गया; अपितु उन माताओं के, जो गर्भावस्था में सेब का सेवन नहीं करती थी। अस्थमा के रोगियों को भोजन के बाद एक या दो से प्रतिदिन खाने की सलाह दी जाती है और इससे रोगियों को फायदा भी होता है। इस तरह कुछ दिन लगातार सेब का सेवन करने से अस्थमा का रोग ठीक हो जाता है।

9. प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए सेब 

इम्यून बूस्टर (प्रतिरक्षा बढ़ाने वाला) के सम्बन्ध में किये गये अध्ययन बताते हैं कि, सेब में पाया जाने वाला पेक्टिन नामक विशेष फाइबर होता है जो इम्यून सपोर्टिव प्रोटींस के स्तर को बढ़ाता है। इसलिए दिन भर में केवल एक ही सेब का सेवन आपको अनेक बीमारियों से बचा सकता है, क्योंकि जब आपका प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत रहेगा, तो आप अनेक प्रकार की बीमारियों से बचे रहेंगे।

10. वजन कम करने के लिए सेब 

जब आमतौर पर मोटे लोग अपने भोजन में प्रतिदिन तीन सेब का सेवन करना प्रारम्भ करते हैं, तो वे डायटिंग की तुलना में अपना अनावश्यक वजन आसानी से कम में समर्थ हो जाते हैं, अर्थात् उनका फालतू वजन/मोटापा कम हो जाता है, क्योंकि सेब में बेड कोलेस्ट्रॉल व अनावश्यक वसा को कम करने का अद्भुत गुण होता है।

सेब के सेवन में सावधानी :-

यदि रोगी में रक्तस्राव के लक्षण / रक्तस्रावी रोग (रक्त वमन, रक्तस्रावी कैंसर, अधिक रक्तस्रावी ऋतुस्राव आदि ) हो; अर्थात्‌ शरीर से रक्त बहने वाले रोग की अवस्था में सेब का सेवन नहीं किया जाता है।

Conclusion -

हमने इस लेख में सेब के सेवन के दस महत्वपूर्ण गुणों का वर्णन किया है। हमें विश्वास है कि यह लेख आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ