प्राचीन भारत के गणराज्य : बौद्ध युग के गणराज्य

 प्राचीन भारत के गणराज्य (600 ई. पू.)

छठी शताब्दी ईसा पूर्व में, हम उत्तर भारत में बड़ी संख्या में राज्य पाते हैं और इनमें से कई राज्य राजाओं द्वारा शासित नहीं थे, बल्कि छोटे गणराज्य थे। इन गणराज्य की आज वर्तमान युग में जहां तक जानकारी हो पाती है उस समय वह बुद्ध का युग था और इसलिए, इस काल के गणराज्यों को 'बुद्ध के युग के गणतंत्र' कहा गया है, लेकिन बुद्ध का प्रभाव हर जगह नहीं था केवल कुछ ही क्षेत्रों में था। ये न केवल भारत बल्कि दुनिया के सबसे प्राचीन मौजूदा राज्य थे, इसलिए भारत भी उन देशों में से एक है, जो प्राचीन समय में संविधान के गणतांत्रिक रूप के साथ प्रयोग करता रहा है।

छठी सदी ईसा पूर्व में षोडश महाजनपदों के अतिरिक्त 10 गणराज्य भी अपने अस्तित्व को बनाए हुए थे। रिज डेविड्स कृत "बुद्धिस्ट इंडिया" में 11वें गणराज्य के रूप में वैशाली के नागों का भी उल्लेख किया गया है। प्रारंभ में इतिहासकारों की धारणा थी कि राजतंत्र के अतिरिक्त गणतंत्र का अस्तित्व नहीं था किंतु वर्तमान शोधों से स्पष्ट हो चुका है कि वैदिक काल में भी गणतंत्र विद्यमान थे। 

प्राचीन भारत के गणराज्य

गणतंत्र की व्याख्या

वैदिक साहित्य में रुद्रगण, मरुद्गण आदि का उल्लेख मिलता है। कौटिल्य और पाणिनि क्रमश: "वार्ताशस्त्रोंपजीवी" एवं "आयुधजीवी" का वर्णन करते हैं। इन्द्र, मरुद् तथा बृहस्पति 'गणपति' कहलाए। सायण (वेदों के भाष्यकार) ने गणकर्माणि के संदर्भ में इसका विश्लेषण किया है। मझ्जिम निकाय में संघ और गण शब्द समान अर्थ में प्रयुक्त हुआ है। के. पी. जयसवाल का विचार है कि 'गण' शब्द शासन प्रणाली का बोधक है। गणों से गणपति का विकास हुआ। गणों में सभी समान थे, कोई विभेद नहीं था। अवदानशतक में उल्लेख है कि "कुछ देश गणों के अधीन हैं तथा कुछ राजाओं के (केचिद्देशा गणाधीना: केचिद् राजाधिना:) । मालव, यौधेय तथा अर्जुनायन गणों की मुद्राएं भी गणराज्य की जीवंतता पर प्रकाश डालती हैं।

बौद्ध तथा जैन ग्रंथों से गंगा घाटी में स्थित इसी काल की बहुत सी और अराजतांत्रिक जातियों का बोध होता है। रिज डेविड्स ने अपनी पुस्तक "बुद्धिस्ट इंडिया" में 11 गणराज्य निर्दिष्ट किए हैं।

भारत में उस समय के गणतंत्रीय राज्यों के अस्तित्व को सभी विद्वानों ने स्वीकार किया है, वे उनके संगठन के रूप में विभाजित हैं। चुनाव की पद्धति और मतदाताओं की योग्यता के बारे में विद्वानों में कोई एकमत नहीं है। बौद्ध स्रोत लिच्छवियों के तत्कालीन गणराज्य राज्य के संबंध में पर्याप्त जानकारी प्रदान करते हैं, फिर भी सभी विद्वान इसके स्वरूप और संविधान के बारे में एकमत नहीं हैं।

कुछ विद्वानों ने अपने अनुमान व्यक्त किए कि प्रशासन में आबादी के प्रत्येक वयस्क ने भाग लिया; कुछ अन्य लोग यह कहते हैं कि केवल क्षत्रियों को यह अधिकार था; और फिर भी अन्य लोगों ने यह विचार व्यक्त किया कि प्रशासन में केवल एक संयुक्त-परिवार के मुखिया को ही भाग लेने की अनुमति थी।


अधिकतर विद्वानों के अपने अनुमान कुछ इस प्रकार हैं-

डॉ. के. पी. जयसवाल ने कहा कि ये गणतंत्र निम्नलिखित तीन श्रेणियों में विभाजित थे:

A. लोकतंत्र या शुद्ध गण, जिसमें प्रशासन में कुल वयस्क-आबादी ने भाग लिया;

B.अरस्तूकी या शुद्ध कुला, जिसमें केवल कुछ चुने हुए परिवारों ने प्रशासन में भाग लिया;

C. मिश्रित अभिजात वर्ग और लोकतंत्र।

डॉ. भंडारकर के अनुसार, उस समय के प्राचीन गणराज्यों को मूल रूप से दो प्रकारों में विभाजित किया गया था, विशुद्ध गणराज्यों और क्षत्रिय अभिजात वर्ग। फिर उनमें से प्रत्येक को दो भागों में विभाजित किया गया। गणतंत्र और अभिजात दोनों ही दो प्रकार के थे, जैसे, एकात्मक और संघीय। जिन गणतंत्रात्मक राज्यों में एकात्मक वर्ण था उन्हें सिटी-रिपब्लिक या निगामा कहा जाता था, जबकि संघीय चरित्र वाले गणराज्यों को राज्य-गणराज्य या जनपद कहा जाता था।

इस प्रकार, विद्वानों की राय मतदान की योग्यता, चुनाव के तरीकों और गणतंत्रात्मक राज्यों के प्रशासन के तहत क्षेत्रों के आधार पर भिन्न होती है। हालांकि, विद्वानों का मानना है कि इन सभी राज्यों का मूल आधार गणतंत्र था। इस प्रकार, इस पर सहमति हो सकती है कि ये सभी राज्य गणतांत्रिक राज्य थे, हालांकि वे विस्तार के मामलों में एक दूसरे से भिन्न थे।

कुछ राज्यों में, केवल क्षत्रिय परिवारों को कानूनों को योगदान करने और कार्यकारिणी के सदस्यों का चुनाव करने का अधिकार दिया गया था; कुछ अन्य लोगों में, संयुक्त परिवारों के प्रमुखों को यह अधिकार दिया गया था; जबकि अभी भी दूसरों में, आबादी के सभी पुरुष-वयस्कों को यह अधिकार था।

इसके अलावा, कुछ राज्यों में, स्थानीय विधानसभाओं ने अपने स्थानीय प्रशासन की देखभाल के लिए व्यापक स्वायत्तता का आनंद लिया और पूरे राज्य से संबंधित मामलों का फैसला स्थानीय विधानसभाओं के सभी चुने हुए प्रतिनिधियों द्वारा किया गया; कुछ अन्य लोगों में, पूरे राज्य को संचालित करने की शक्तियां एक निर्वाचित केंद्रीय विधानसभा और कार्यपालिका को सौंप दी गई थीं।

 उन सभी के बीच इन सभी मतभेदों के साथ उनमें से प्रत्येक एक गणतंत्रात्मक राज्य था क्योंकि प्रत्येक राज्य में विधानसभा के सदस्यों को कानून बनाने के लिए और अधिकारियों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से बड़ी संख्या में आबादी द्वारा चुना गया था। इन सभी राज्यों में, जिन लोगों को राज्य के तय कानूनों के अनुसार शासन करने का अधिकार था, वे संथागरा नामक एक सभा-भवन में इकट्ठा होते थे, राज्य के विषय में सभी महत्वपूर्ण मामलों पर चर्चा करते थे, बहुमत के मतों से मुद्दों पर निर्णय लेते थे।   खुला या गुप्त मतदान होता था।

इस विधानसभा के सदस्य, जो इन प्रतिनिधियों का गठन किया गया था, उन्हें कुछ विशेष विशेषाधिकार भी प्राप्त थे। इस विधानसभा के सदस्यों ने कार्यकारिणी के सदस्यों, सेनाओं के कमांडर-इन-चीफ, कोषाध्यक्ष आदि का चयन किया। उनसे राज्य के सभी महत्वपूर्ण मामलों जैसे शांति और युद्ध के मामलों में सलाह ली गई। कार्यकारिणी के सदस्यों को राजन कहा जाता था और कार्यपालिका के प्रमुख को कभी-कभी राजा (राजा) की उपाधि दी जाती थी।

कई गणराज्यों में राजा के कार्यालय और अन्य कार्यकारी सदस्यों के वंशानुगत हो गए थे, लेकिन वे चुनाव द्वारा विस्थापित हो सकते थे। कुछ अन्य गणराज्यों में कार्यपालिका के प्रमुख को राजा नहीं बल्कि गणपति कहा जाता था और उन्हें और साथ ही कार्यकारिणी के अन्य सदस्यों को एक निश्चित अवधि के लिए चुना जाता था।

इस प्रकार, हम पाते हैं कि ये गणतंत्रात्मक राज्य विस्तार के मामलों में भिन्न थे, लेकिन उनमें से सभी ने चुनावों के व्यापक पैटर्न का पालन किया, सभी सम्मानित नागरिकों या उनके समूहों को प्रशासन में भाग लेने और कानूनों को तैयार करने की अनुमति दी और इस प्रकार, प्राथमिक स्थितियों के रूप में लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं का पालन किया। राज्य का शासन। बेशक, वे आधुनिक अर्थों में लोकतांत्रिक नहीं थे, लेकिन उस समय उनका होना भी संभव नहीं था। लेकिन इन राज्यों ने जो कुछ भी अभ्यास किया, वह उन्हें रिपब्लिक कहलाने के लिए पर्याप्त था।


10 भारत के सबसे प्राचीन गणराज्य:-

1. कपिलवस्तु के शाक्य:-

यह उस समय का एक महत्वपूर्ण गणराज्य था। महात्मा गौतम बुद्ध का जन्म इसी राज्य में हुआ था, इसलिए बौद्ध साहित्य में इस गणराज्य का विस्तृत वर्णन मिलता है। यह गणराज्य हिमालय की तराई तथा आधुनिक गोरखपुर के पश्चिमी भाग में अवस्थित था। शाक्य नेपाल की सीमा पर हिमालय की तराई में रहते थे। शाक्यों की राजधानी कपिलवस्तु थी। इन शाक्यों ने अनेक विशाल नगरों का निर्माण किया था तथा यह गणराज उस समय काफी उन्नत था।

दीर्घनिकाय के उल्लेखानुसार महात्मा बुद्ध की मृत्यु के उपरांत शाक्य वंश ने उनके अवशेषों की मांग करते हुए कहा था कि हम और महात्मा बुद्ध एक ही वंश की हैं। कुछ अन्य स्थानों पर शाक्य वंश को इक्ष्वाकु वंश से संबंधित बताया गया है। भारतीय संस्कृति तथा धर्म के अनुसार इक्ष्वाकु वंश के क्षत्रिय सूर्यवंशी थे। इससे हम इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि शाक्य सूर्यवंशी क्षत्रिय थे। यह राज्य महात्मा बुद्ध के समय में बहुत शक्तिशाली हो गया था। 

शाक्यों का शासन प्रबंध अत्यंत सुगठित एवं व्यवस्थित था। इनकी मंत्रणा-सभा बहुत विशद् थी और इसी सभा द्वारा न्याय तथा शांति की व्यवस्था की जाती थी। इस मंत्र सभा का प्रधान राजा कहलाता था। महात्मा बुद्ध के पिता शुद्धोधन भी इसके राजा रह चुके थे। 

कला एवं विद्या से शाक्यों का विशेष अनुराग था। उस समय कपिलवस्तु शिक्षा एवं संस्कृति का केंद्र मानी जाती थी। शाक्यों को अपने कला एवं संस्कृति पर गर्व था। इसलिए वे अन्य वर्गों वाले क्षत्रियों से वैवाहिक संबंध नहीं बनाना चाहते थे, ताकि उनमें किसी प्रकार का सम्मिश्रण न हो।


2. वैशाली का लिच्छवि:-

 इस गणराज्य का उल्लेख हम षोडश महाजनपद के अंतर्गत कर चुके हैं। अतः यहां पर इतना ए कहना पर्याप्त होगा कि तत्कालीन वैशाली का लिच्छवी गणराज्य धार्मिक जागृति का प्रमुख केंद्र था। महावीर स्वामी का जन्म भी यहीं पर हुआ था तथा अनेक बार महात्मा बुद्ध भी वहीं पर गए थे। यहां की राजधानी वैशाली आधुनिक मुजफ्फरपुर जिले के बसाई ग्राम के निकट स्थित थी। क्षत्रिय होने के कारण लिच्छवियों ने भी महात्मा बुद्ध के भस्मावशेषों को प्राप्त किया था। लिच्छवियों की शासन व्यवस्था सुव्यवस्थित थी। स्वयं महात्मा गौतम बुद्ध ने भी लिच्छवियों की सुन्दर शासन व्यवस्था की प्रसंशा अपने मुख से की है।

यह उस समय का सबसे बड़ा और सबसे शक्तिशाली गणराज्य था। इसमें मल्लास के नौ गणराज्य और काशी और कोशल के अठारह गणराज्य राज्य शामिल थे। वैशाली लिच्छवियों की राजधानी थी, जिसमें लगभग 42,000 परिवार रहते थे और एक सुंदर और समृद्ध शहर था। राज्य के प्रमुख को चुना गया और उन्हें राजा का खिताब दिया गया।

इसमें 7707 राजन थे, जो संभवत: अपने क्षेत्रों के मुख्य अधिकारी थे। यह इतना शक्तिशाली राज्य था कि मगध के शक्तिशाली राज्य के शासक अजातशत्रु को वर्षों तक सैन्य और कूटनीतिक तैयारी करनी पड़ी थी, जब तक कि वह इसे एनेक्स करने में सफल नहीं हो सके और यह भी हासिल किया जा सका, जब लिच्छवियों को विभाजित करने में उनकी कूटनीति सफल रही। 


3. पावा के मल्ल:-

यह क्षत्रियों का एक गणतंत्र राज्य था, जिसकी राजधानी पावा थी। इस राज्य के क्षेत्र तथा विस्तार के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त नहीं है। यहां मल्ल वंश की एक शाखा के शासक राज्य करते थे। यह वशिष्ठ गोत्र के क्षत्रिय थे। इनकी दो शाखाएं थी। पहली शाखा पावा के मल्ल संभवत: आधुनिक पडरौना में बसे थे। किंतु डॉ कनिंघम के इस मत के विरुद्ध कुछ इतिहासकार फजिलपुर को ही पावा मानते हैं। यहीं पावा में महात्मा महावीर ने पंचत्व प्राप्त किया था।



4. कुशीनारा के मल्ल:-

यह मल्ल की एक और शाखा थी। आधुनिक कसिया ही कुशीनारा के नाम से विख्यात थी। यह संभवत: मल्लों की दूसरी शाखा थी। कुशीनारा में एक ही बुद्ध का परिनिर्वाण हुआ था, जिसका प्रमाण कसिया से प्राप्त महात्मा बुद्ध की परिनिर्वाण मुद्रा में सोई एक विशाल प्रतिमा है। मझ्जिम निकाय के उल्लेख के अनुसार मल्लों के राज्यों को संघ राज्य कहा गया है। इन संघों की सभाएं संघागार में होती थी। महात्मा बुद्ध के परिनिर्वाण की सूचना पावा के मल्लों को उस समय प्राप्त हुई, जब उनकी सभा हो रही थी।


5. रामग्राम (रामगाम) के कोलिया:-

यह गणराज्य कपिलवस्तु के शाक्य गणराज्य के पूर्व की ओर स्थित था और इसकी राजधानी रामाग्राम थी।। इन दोनों राज्यों के मध्य में रोहिणी नदी थी, जिससे शाक्यों एवं कोलियों के मध्य रोहिणी नदी के जल का उपभोग करने के लिए वैमनस्य बना रहता था। महात्मा बुद्ध के पिता शाक्य गणराज्य के राजा थे। दोनों गणराज्य के मध्य शांति स्थापित करने के लिए ही इन्होंने दो कोलिय कन्याओं से विवाह किया था। जातक कथा के अनुसार, महात्मा बुद्ध को भी इस प्रकार के कलह को शांत करना पड़ा था। हालांकि, महात्मा बुद्ध की मध्यस्थता से दोनों राज्यों के बीच स्थायी शांति की व्यवस्था की गई थी।


6. सुंसुमारगिरि का भग्ग:-

इस गणराज्य की स्थिति के विषय में निश्चित प्रमाण अप्राप्त्य हैं। ये ऐतरेय ब्राह्मण के प्राचीन वर्ग थे। डॉ के. पी. जायसवाल के मतानुसार इनके राज्य में आधुनिक मिर्जापुर तथा उसका समीपवर्ती भूभाग सम्मिलित था। यह राज्य ऐतरेय ब्राह्मणों का था और इसकी राजधानी सुंसुमारगिरी थी। 


7. पिप्पलिवन के मोरिय:-

इस गणराज्य की स्थिति के विषय में मत एक नहीं है, परंतु ऐसा प्रतीत होता है कि यह राज्य भी हिमालय की तराई प्रदेश में था। महावंश टीका से पता चलता है कि मोरिय पहले शाक्य थे, पर कालांतर में विडुडभ की क्रूरता के कारण ये लोग स्थानांतरण करके हिमालय के पर्वतीय भाग में जाकर बस गए वहां उन्होंने पीप्पलिवन नामक नगर का निर्माण किया। यह राज्य हिमालय की पैदल-पहाड़ियों में था। संभवतः, मगध के सम्राट चंद्र गुप्त मौर्य इस परिवार के थे।


8. केसपुत्त के कालाम:-

गौतम बुद्ध के गुरु कालाम इसी गणराज्य में रहते थे। इस आधार पर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि यह गणराज्य कपिलवस्तु तथा रामग्राम के निकट ही रहा होगा। इनका संबंध संभवत: शतपथ ब्राह्मण में वर्णित पांचाल के केशियों से है।


9. मिथिला के विदेह:-

जातकों के उल्लेखानुसार इस गणराज्य की सीमाएं नेपाल के निकटवर्ती जनकपुर ग्राम के आस-पास तक फैली हुई थी। इसकी राजधानी मिथिला थी। जातक से ज्ञात होता है कि मिथिला उस समय का बहुत ही प्रसिद्ध व्यापारिक केंद्र था और दूर-दूर से व्यापारी यहां व्यापार करने के लिए आते थे।


10. अल्लकम्प के बुलि:-

बुलि, वेथदीय राजा के निकट ही कहीं बसे थे। इनकी भूमि आधुनिक शाहाबाद तथा मुजफ्फरपुर के बीच में ही थी। संभवत: बिहार के शाहाबाद और मुजफ्फरपुर जिले का निकटवर्ती भाग इस गणराज्य के अंतर्गत था।


गणतंत्र शासन पद्धति 

राजतंत्रीय तथा गणतंत्रीय शासन पद्धतियों का सह अस्तित्व इस काल के राजनैतिक दर्शन में अद्भुत प्रयोग को प्रमाणित करता है। यद्यपि इस प्रकार की शासन प्रणालियों का प्रचलन तत्कालीन यूनान तथा रोम के 'नगर राज्यों' में भी था; परंतु उन देशों के गणराज्य संवैधानिक रूप से इतने विकसित नहीं थे, जितने कि भारत के विकसित थे। इस बात के निश्चित प्रमाण उपलब्ध है कि छठी शताब्दी ईसा पूर्व या उससे भी काफी पहले भारत में गणतंत्रीय शासन प्रणाली का पर्याप्त विकास हो चुका था।

ये उस समय भारत में महत्वपूर्ण गणराज्य थे। उनमें से प्रत्येक ने अपने शासक परिवार के नाम से अपना नाम आकर्षित किया। इनमें महान और छोटे दोनों राज्य शामिल थे। उनमें से कुछ अभिजात वर्ग थे, कुछ अन्य शुद्ध गणराज्य थे जबकि कुछ के पास संघीय-गणतांत्रिक गठन थे और उन्हें जनपद कहा जाता था।


गणराज्यों के विनाश का कारण

जैसा कि उपर्युक्त विवरण से स्पष्ट है, बुद्धकाल के कुछ गणराज्य अत्यंत शक्तिशाली एवं सुव्यवस्थित थे। उन्होंने अपने समकालिन राजतंत्रों का बड़ा प्रतिरोध किया था। देश भक्ति व स्वाधिनता की भावना उनमें कूट कूट कर भरी हुई थी। किन्तु वे राजतंत्रों के विरुद्ध अपनी स्वतंत्रता की रक्षा नहीं कर सके और उनका पतन हो गया। इसके लिए अनेक कारण उत्तरदायी बताए गये हैं।

उनमें से अधिकांश अपने आपसी संघर्षों के कारण अपने खंडहर के बारे में लाए थे और शेष इसे मगध की बढ़ती शक्ति द्वारा पूरा किया गया था जो उन सभी को समाप्त करने में सक्षम था।

छठी शताब्दी ईसा पूर्व के बाद हम भारत के उत्तर-पश्चिम में गणराज्य राज्यों का अस्तित्व पाते हैं। ग्रीक राजा अलेक्जेंडर को भारत में अपने अभियान के दौरान उनके खिलाफ लड़ना था।

गणतंत्रीय राज्य, जो अलेक्जेंडर के खिलाफ लड़े थे, अस्माक, मालव, क्षुद्रक, अर्जुनयान, मुशिक आदि थे, उनमें से अधिकांश ने आक्रमणकारी को गंभीर प्रतिरोध दिया और उनके देश की रक्षा करने में उनकी भूमिका उनके समकालीन राजतंत्र की तुलना में अधिक विश्वसनीय बनी रही। 

सिकंदर की वापसी के बाद, चंद्र गुप्त मौर्य ने इन सभी गणराज्य राज्यों पर विजय प्राप्त की। उन्होंने और उनके मंत्री, दोनों ने, प्रसिद्ध चाणक्य ने, भारत में राजनीतिक एकता लाने के लिए साम्राज्यवाद की नीति का समर्थन किया और इसलिए, इन गणराज्य राज्यों को वापस लेने के लिए एक व्यवस्थित नीति अपनाई।

लेकिन, फिर से, मौर्य साम्राज्य के पतन के बाद, हम पश्चिमी भारत में गणराज्यों के राज्य का अस्तित्व पाते हैं। उनमें मालवों के राज्य, अर्जुनयान, यौधेय और मद्रक काफी महत्वपूर्ण थे। उनमें से प्रत्येक ने विदेशी आक्रमणकारियों के खिलाफ देश की रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। संभवतः, प्रत्येक मामले में राज्य का प्रमुख चुना जाता था और उसे महाराजा या महासेनापति कहा जाता था।

वे शक से हार गए थे लेकिन उन्होंने कुषाणों के खिलाफ सफलतापूर्वक लड़ाई लड़ी। अर्जुनयान आधुनिक जयपुर के पास के क्षेत्र में, पूर्वी राजपूताना के मालव में, बहावलपुर राज्य के पास युधेस में बसे हुए थे, जबकि मद्रक ने रावी और चिनब नदियों के बीच के क्षेत्र पर कब्जा कर लिया था।

इसके अलावा, शिवियों ने चित्तौड़ के पास अपना राज्य स्थापित किया; कुल्लु का गणतंत्र राज्य कुल्लू घाटी में था; ऑडुटनबार का राज्य कांगड़ा-घाटी और पंजाब के गुरुदासपुर आना होशियारपुर जिलों में स्थित था; भद्रकों का राज्य सियालकोट में था; अबीर का मध्य भारत में अपना राज्य था; भीलरा के पास सनाकोनिक स्थापित किए गए थे; मध्य प्रदेश में प्रार्जुनों का निवास; कोच्चि में उनका राज्य सांची के पास था; और खारपारीकास का गणतंत्र राज्य मध्य प्रदेश के जिला दमोह के पास था।

इन सभी गणराज्य राज्यों को शाही गुप्तों द्वारा नष्ट कर दिया गया था, जिन्होंने साम्राज्य के विस्तार की नीति का अनुसरण किया और पड़ोसी राज्यों को रद्द कर दिया। उनमें से कुछ को चंद्रगुप्त प्रथम ने नष्ट कर दिया, उनमें से ज्यादातर को समुंद्र गुप्ता ने और बाकी को चंद्र गुप्त द्वितीय ने नष्ट कर दिया।

हम बाद में भारत में रिपब्लिकन राज्यों का कोई अस्तित्व नहीं पाते हैं। कभी-कभी, शक्तिशाली गुप्त को इस त्रासदी के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। लेकिन यह दृष्टिकोण उचित नहीं है। बेशक, गुप्तों की विस्तारवादी नीति उनके विनाश के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार थी, लेकिन उनकी आंतरिक कमजोरियों और आपसी संघर्ष भी निश्चित रूप से, उनके विलुप्त होने के लिए जिम्मेदार थे।

इसके अलावा, रिपब्लिकन राज्य न केवल भारत या उत्तर भारत को राजनीतिक एकता प्रदान करने में विफल रहे थे, बल्कि इसका एक हिस्सा भी थे। उनके विपरीत, राजशाही राज्य इस प्रयास में अधिक सफल रहे थे। और, उस समय या, बल्कि हर समय, भारत को गणतंत्रवाद के आदर्श को पूरा करने के प्रयासों से अधिक एकता और राजनीतिक एकजुटता की आवश्यकता थी।

इसलिए, गुप्तों द्वारा पीछा किए गए एक व्यापक और मजबूत साम्राज्य का आदर्श भारत के लिए फायदेमंद था और इस प्रकार, रिपब्लिकन राज्यों के विलुप्त होने को भारतीय इतिहास में एक अफसोसजनक घटना के रूप में बिल्कुल भी स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए और कोई भी दोष गुप्तों को नहीं सौंपा जाना चाहिए। । गणतंत्रात्मक राज्य का विलुप्त होना देश के लिए स्वाभाविक और लाभप्रद था और इसे इस तरह स्वीकार किया जाना चाहिए।

उपरोक्त जानकारी M. A. में पढ़ाए जाने वाले पुस्तकों के आधार पर दी गई है। कुछ विद्वानों का मत है कि वर्तमान में जो इतिहास पढ़ाया जा रहा है वह गलत पढ़ाया जा रहा है और कुछ विद्वानों का मत है कि इतिहास सही पढ़ाया जा रहा है; अत: यह कहां तक सत्य है, यह शोध का विषय है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ