Welcome !  Multi Useful Gyan Site पर आपका स्वागत है। आप यहां पर हिन्दू धर्म व अन्य धर्म विषयक और अनेक रोचक जानकारियां पायेंगे। अतः इस वेबसाइट को सब्सक्राइब (Subscribe) करें और Notification को ON/Allow भी करें !

Translator

Advice about all Vitamins, सभी विटामिनों की जानकारी हिन्दी में, Vitamin d, b12, biotin, vitamin e, niacinamide,, vitamin b complex etc.

                  Donate us

 विटामिन ( Vitamin ): परिचय 

यह विज्ञान के छात्रों के लिए बहुत अच्छा नोट्स है, और अन्य सभी लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण जानकारी हैं।

अपने स्वास्थ्य का निरीक्षण करें। अगर आपके पास है तो भगवान का शुक्रिया अदा करें और इसके महत्व को समझें। स्वास्थ्य इन नश्वर प्राणियों के लिए प्रकृति का एक उपहार है जिसे कभी भी पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है।

खाद्य पदार्थों में प्रभावी विटामिन के अस्तित्व का पता पहली बार 18वीं शताब्दी की शुरुआत में ब्रिटिश जहाजियों ने लगाया था। उस समय जहाज से यात्रा करते समय कुछ लोग बीमार हो जाते थे, विशेषकर उनके मसूढ़ों से खून बहने लगता था, शरीर की मांसपेशियां कमजोर हो जाती थीं और हृदय गति रुक ​​जाने से उनकी मृत्यु हो जाती थी। प्रसिद्ध जहाज कप्तान कुक ने केवल ताजे फल और सब्जियां और नींबू के रस का सेवन करके इस भयानक बीमारी को ठीक किया, लेकिन वे उनमें पाए जाने वाले विटामिन का नाम नहीं बता सके।

All Vitamins


19वीं शताब्दी में, 1880 के आसपास, नाविकों में एक और बीमारी 'बेरीबेरी' फिर से प्रकट हुई। इसमें शरीर की कुछ नसें सूज जाती हैं और मांसपेशियों में लकवा हो जाता है। जापानी जहाज एडमिरल ताकाई ने भी इस रोग को केवल चोकर के दानों, छिलके वाली दालें, फल आदि के सेवन से रोगियों को विच्छेदित या ठीक किया था।

→ कुछ विटामिन, जैसे बी12, और K आंत के बैक्टीरिया  शरीर में निर्माण करते हैं।

विटामिन की परिभाषा (Definition of vitamin)

विटामिन वे कार्बनिक पदार्थ हैं जो हमारे शरीर में विशिष्ट जैविक गतिविधियों को पूरा करने के लिए हमारे आहार में आवश्यक हैं, जो हमारे शरीर या जीव के इष्टतम विकास और स्वास्थ्य को बनाए रखते हैं।

केवल विटामिन की सबसे छोटी मात्रा की आवश्यकता होती है।

→  विटामिन की कमी से अपूर्णता रोग होता है।

→ प्रथम विटामिन की खोज एन.आई. लूनिन ने 1881 में किया।

→ हॉपकिंस और फंक ने सबसे पहले 'विटामिन' शब्द का इस्तेमाल किया।

→ सबसे पहले ज्ञात विटामिन B1 (थियामिन) है।

विटामिन का वर्गीकरण (Classification of vitamins) 

जल तथा वसा में विलेयता के आधार पर इन्हें दो वर्गों में बाँटा गया है-

1. वसा में घुलनशील विटामिन-

ये विटामिन वसा और तेलों में घुलनशील होते हैं लेकिन पानी में अघुलनशील होते हैं।

विटामिन A, D, E, K वसा में घुलनशील विटामिन हैं।

वसा में घुलनशील विटामिन लीवर में और त्वचा के नीचे पाए जाने वाले वसा ऊतक में जमा हो जाते हैं।

2. पानी में घुलनशील विटामिन

ये विटामिन पानी में घुलनशील और वसा और तेलों में अघुलनशील होते हैं।

इसमें vitamin B complex और विटामिन C रखा गया है।

→ पानी में घुलनशील विटामिनों को नियमित रूप से आहार में शामिल करना चाहिए क्योंकि वे आसानी से मूत्र के साथ बाहर निकल जाते हैं।

→ विटामिन बी 12 के अलावा पानी में घुलनशील विटामिन शरीर में जमा नहीं होते हैं।

1. विटामिन A (Retinol, Antixerophthalmic) -

→ इसका आणविक सूत्र C20 H29 OH है।

विटामिन A के लाभ-

1.  आंखों को स्वस्थ रखता है।

2. कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक।

3. प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाता है।

4. त्वचा के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक।

5. पाचन तंत्र को ठीक रखता है।

. विटामिन A की कमी से होने वाले रोग-

1. ज़ेरोफथाल्मिया (कॉर्निया) का सख्त होना,

2.  रतौंधी, मोतियाबिंद,

3. आंखों की श्लेष्मा झिल्ली की सूजन और सूखापन,

4. अश्रु ग्रंथियों का सूखना,

5. बच्चों में विकास मंदता,

6. वजन घटाना,

7. खांसी, क्षय रोग, निमोनिया, त्वचा का रूखापन, नसों का दर्द।

. विटामिन A के स्रोत-

धनिया पत्ती, गाजर, मक्खन, दूध, पके हुए मुख्य रूप से आम, पालक, मछली के जिगर के तेल आदि में मौजूद होते हैं।

. विटामिन ए की दैनिक आवश्यकता-

एक छोटे बच्चे के लिए माँ के दूध के साथ प्रति दिन 1000u,

एक स्वस्थ वयस्क के लिए 1-2 म्यू प्रति दिन या 7000-9000u,

गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन 9000u की आवश्यकता होती है।

2. विटामिन D ( कैल्सीफेरॉल, सनलाइट विटामिन )-

. विटामिन D का उपयोग-

1.  शरीर में कैल्शियम और फास्फोरस के अवशोषण के लिए आवश्यक।

2. वृद्धि के लिए आवश्यक, हड्डियों, दांतों, बालों की मजबूती।

. विटामिन D की कमी से होने वाले रोग-

1.  बच्चों की अस्थि विकृति (रिकेट्स),

2. अस्थिमृदुता (वयस्क जोड़ों का दर्द, अस्थिमृदुता),

3. श्वेत प्रदर, गठिया, मधुमेह, निमोनिया, खांसी, हृदय रोग, मृग, हिस्टीरिया आदि।

. विटामिन D के स्रोत -

1. सूरज की रोशनी (त्वचा के नीचे वसा की परत में मौजूद आर्गोस्टेरॉल नामक रासायनिक तत्व सूर्य की पराबैंगनी किरणों के साथ प्रतिक्रिया करके विटामिन डी बनाता है)।

2. विटामिन ए के सभी स्रोत,

ज्यादा देर तक आग पर रखने से विटामिन डी नष्ट नहीं होता है।

3. विटामिन E (टोकोफेरोल)-

. विटामिन E के फायदे-

1.  इसकी उपस्थिति से ही पुरुषों में पुरुषत्व और महिलाओं में गर्भ धारण करने की क्षमता प्राप्त होती है।

2. सड़ांध और गंध को रोकता है।

3. घाव भरने में मदद करता है।

4. प्रतिरक्षा बढ़ाता है।

. विटामिन E की कमी से होने वाले रोग-

1. नपुंसकता, नपुंसकता,

2. बांझपन,

3. जननांग रोग,

4. समय से पहले बुढ़ापा आने के लक्षण।

. विटामिन E के स्रोत-

1. अधिकांश अंकुरित गेहूं

2. वनस्पति तेल, दूध, हरी पत्तेदार सब्जियां, मक्खन आदि।

→ युवा पीढ़ी को तली-भुनी चीजें, बारीक पिसा हुआ आटा नहीं खाना चाहिए।

4. विटामिन K (नेप्थोक्विनोन) -

→ इसका पता पहली बार 1934 में लगाया गया था।

. विटामिन K का प्रयोग-

1. किसी भी कारण से बहने वाले रक्त के जमाव को रोकता है।

2. गर्भवती महिलाओं में अत्यधिक रक्तस्राव को रोकता है।

3. इस विटामिन का उपयोग कुछ स्थितियों में ऑपरेशन से पहले रक्त के थक्के को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

4. यह ग्लूकोज को कोशिका झिल्ली में प्रवेश करने और ग्लूकोज को ग्लाइकोजन में बदलने में भी मदद करता है।

. विटामिन K की कमी से होने वाले रोग-

एक दुर्घटना के बाद, रक्त के थक्के (रक्त के थक्के) की प्राकृतिक प्रक्रिया कम हो जाती है।

. विटामिन K के स्रोत-

1. उच्च मात्रा में पत्ता गोभी, हरी सब्जियां,

2. दूध, मक्खन,

3. टमाटर, आलू, सोयाबीन,

4. गेहूं का चोकर।

→ सूर्य की गर्मी से और गर्म करने से विटामिन K नष्ट हो जाता है, लेकिन आंतों में इसका उत्पादन जारी रहता है।

5. विटामिन B1 या F (थियामिन)-

→ इसका आणविक सूत्र C12H18N4Cl2O5 है।

. विटामिन B1- का उपयोग-

1. शरीर की नसों, पाचन अंगों, हृदय, लीवर को ताकत देता है।

2. मांसपेशियों को सक्रिय रखता है और चपलता प्रदान करता है।

3. रक्तचाप को नियमित और नियंत्रित रखता है।

. विटामिन B1 की कमी से होने वाले रोग-

1.   बेरी बेरी (तंत्रिका तंत्र की कमजोरी, हृदय की कमजोरी के कारण पूरे शरीर का आंशिक या पूर्ण पक्षाघात),

2. अपच,

3. तंत्रिका संबंधी विकार,

4. नेत्र रोग,

5. बालों का झड़ना,

6. नकसीर, कमजोरी, घबराहट,

7. मधुमेह,

8. सफेद कुष्ठ रोग,

9. पागलपन,

10. मां को दूध की कमी।

. विटामिन B1 स्रोत-

1.  फलियां, रसदार फल, हरी सब्जियां

2. केला, बिना मीठा अनाज

3. अंकुरित अनाज

4. सख्त छिलके वाले फल, दूध आदि अधिक मिलते हैं।

. विटामिन B1 की दैनिक आवश्यकता-

बच्चों, वयस्कों के लिए प्रति दिन 6-10 मिलीग्राम,

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं रोजाना 4-5 मिलीग्राम।

6. विटामिन B2  या G,( राइबोफ्लेविन )-

→ इस विटामिन की खोज मिस्टर गोल्ड बर्जर ने 1926 में की थी।

. विटामिन B2 के फायदे-

1.  इस विटामिन के प्रभाव में शैशवावस्था से युवावस्था तक विकास होता है।

2. त्वचा के सभी रोगों को दूर करता है।

3. आंख के विभिन्न रोगों जैसे वेब, लाली, धुंध, अंधापन, गुहा, पलकों में सूजन, जलन को रोकता है।

4. बालों की सुंदरता

5. जवानी में ही बूढ़े की तरह दिखने से बचाता है।

. विटामिन B2 की कमी से होने वाले रोग-

1. कीलोसिस (होंठों का फटना),

2. ग्लोसिटिस (जीभ की सूजन),

3. जिल्द की सूजन,

4. रक्त विकार, सफेद धब्बे, मुंह के छाले, खून की कमी, लकवा, मोतियाबिंद,

5. कै (उल्टी) गर्भवती को।

. विटामिन B2 के स्रोत-

दाल में अधिकांश, सेब में फलों में, ज्वार में अनाज में, सब्जियों में मूली के पत्तों में, और सोयाबीन दूध, अंडे, मांस में पाया जाता है।

. विटामिन B2 की दैनिक आवश्यकता-

बच्चों के लिए प्रतिदिन 7-12 मिलीग्राम,

वयस्क 1-2 मिलीग्राम प्रतिदिन,

गर्भावस्था के दौरान रोजाना 12-15 मिलीग्राम।

7. विटामिन B3 ( पैंटोथेनिक एसिड )-

. विटामिन B3 के फायदे-

चयापचय गतिविधियों में सह-एंजाइम के घटक।

. B3 की कमी से होने वाले रोग -

1.  त्वचा रोग या त्वचा रोग,

2.   प्रभावित वृद्धि और प्रजनन क्षमता।

. विटामिन B3 के स्रोत-

दूध, टमाटर, मूंगफली आदि।

8. विटामिन B5 ( निकोटिनिक एसिड या नियासिन )-

. विटामिन B5 के फायदे-

1. कार्बोहाइड्रेट और अमीनो एसिड के ऑक्सीकरण में मदद करता है।

2. श्वसन में प्रयुक्त NAD NADP का एक घटक है।

3. स्मरण शक्ति को बढ़ाता है।

. विटामिन B5 की कमी से होने वाले रोग-

1. पेलाग्रा (जीभ और त्वचा पर पपड़ी),

2. पाचन शक्ति क्षीण,

3. कमजोर याददाश्त।

. विटामिन B5 के स्रोत-

1. दाल, अनाज,

2. यीस्ट में अधिक पाया जाता है।

9. विटामिन B6 (पाइरिडोक्सिन):-

. विटामिन B6 के फायदे-

1. अमीनो एसिड, प्रोटीन चयापचय में सहायता,

2. रक्त बढ़ाना,

3. वसा के पाचन में सहायक,

4. दिमागी शक्ति को बढ़ाता है,

5. तंत्रिका तंत्र का नियंत्रण,

6. गंजेपन को रोकता है।

. विटामिन B6 की कमी से होने वाले रोग-

1. आक्षेप,

2. गर्भावस्था में सुबह-सुबह मतली,

3. एनीमिया,

4. त्वचा रोग,

5. गुर्दे की पथरी,

6. वजन में कमी।

. विटामिन B6 के स्रोत-

1. गेहूं और चावल की ऊपरी परत,

2. दाल, मूंगफली और सब्जियां,

3. नट, खमीर।

. दैनिक आवश्यकता-    2 - 3 मिलीग्राम प्रतिदिन।

10. विटामिन B12 (सायनोकोबालामिन):-

→ इसे लाल विटामिन भी कहा जाता है।

. विटामिन B12 के फायदे-

1. RBCs का निर्माण

2. न्यूक्लियोप्रोटीन का निर्माण

3. विकास में सहायता

4. नई चेतना और शक्ति का निर्माण

5. पुराने सिरदर्द को दूर करता है।

. विटामिन B12 की कमी से होने वाले रोग-

1.   आरबीसी में हीमोग्लोबिन की कमी,

2.  घातक रक्ताल्पता,

3. संज्ञा शून्यता, लकवा,

4. कठोरता आदि।

. विटामिन B12 के स्रोत-

1. यह ज्यादातर दूध, दही में पाया जाता है।

2. मछली, अंडा, मांस आदि में।

11. विटामिन C ( एस्कॉर्बिक एसिड )-

→ इसे एंटीस्कॉर्ब्यूटिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है।

→ इसका आणविक सूत्र C6H8O6 है।

. विटामिन C के फायदे-

1. क्रेब्स चक्र में सहायक कोलेजन फाइबर के रूप में कोलेजन इंटरसेलुलर मैट्रिक्स बनाता है।

2. प्रतिरक्षा बढ़ाता है।

3. डेंटिन और हड्डियों का मैट्रिक्स बनाता है।

4. पाचन तंत्र को मजबूत करता है।

5. शरीर का विकास,

6. खून साफ ​​करता है।

7. घावों को जल्दी भरने और ठीक करने में मदद करता है।

. विटामिन C की कमी से होने वाले रोग-

1.  स्कर्वी (मसूड़े से खून बहना),

2. शारीरिक और मानसिक कमजोरी,

3. खोपड़ी और बालों का सूखना,

4. चर्म रोग।

. विटामिन C के स्रोत-

1. खट्टे फल (नींबू, मौसमी, संतरा)

2. सबसे ज्यादा आंवले में।

→ यह सूर्य के प्रकाश, क्षार के संपर्क में आने से नष्ट हो जाता है और लंबे समय तक अम्लीय पदार्थों के साथ रहता है।

. दैनिक आवश्यकता-

प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम 50mg की आवश्यकता होती है।

→ पथरी के रोगियों को विटामिन सी युक्त भोजन नहीं करना चाहिए।

12. विटामिन H (बायोटिन या B7) -

. विटामिन H के लाभ-

यह वसा संश्लेषण और ऊर्जा उत्पादन में सहायता करता है।

. विटामिन H की कमी से होने वाले रोग-

1. बालों का झड़ना,

2. त्वचा रोग,

3. तंत्रिका संबंधी विकार।

. विटामिन H के स्रोत-

यह टमाटर, खमीर, मूंगफली, अंडे आदि में पाया जाता है।

13. फोलिक एसिड (B11)-

→ यह एक पानी में घुलनशील विटामिन भी है।

. विटामिन B11 के लाभ-

1.   रक्त कोशिकाओं का निर्माण,

2. न्यूक्लिक एसिड के संश्लेषण में सहायता,

3. शारीरिक विकास में सहायक।

. विटामिन B11 की कमी से होने वाले रोग-

1.  एनीमिया,

2. शारीरिक वृद्धि में कमी।

. फोलिक एसिड के स्रोत-

यह हरी पत्तेदार सब्जियों-सब्जियों, सोयाबीन, खमीर, अंडे आदि में पाया जाता है।

निष्कर्ष -

प्रिय मित्रों! मैंने विटामिन के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। अगर आपको कोई संदेह है तो आप कमेंट करके जरूर पूछें। धन्यवाद!

                  Donate us

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

  1. king casino: welcome bonus, promotions, best online casinos 2021
    The king casino promo 샌즈카지노 is one of the best and 카지노사이트 most popular ones at this casino. Get 제왕카지노 the best bonus codes and offers at the leading online casinos.

    जवाब देंहटाएं

Please comment here for your response!
आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ? कृपया अपनी प्रतिक्रिया, सुझाव, प्रश्न और विचार नीचे Comment Box में लिखें !