Welcome !  Multi Useful Gyan Site पर आपका स्वागत है। आप यहां पर हिन्दू धर्म व अन्य धर्म विषयक और अनेक रोचक जानकारियां पायेंगे। अतः इस वेबसाइट को सब्सक्राइब (Subscribe) करें और Notification को ON/Allow भी करें !

Translator

Immunity System in hindi: इम्यून सिस्टम क्या है, कैसे काम करता है

                  Donate us

रोग प्रतिरोधक शक्ति या प्रतिरक्षा तंत्र [Immunity System]:-

प्रतिरक्षा, एक जीव के शरीर की बीमारी पैदा करने में एक विशेष रोगज़नक़ का विरोध करने की क्षमता है।

ऐबामॉफ (1970) के अनुसार -

प्रतिरक्षा शरीर की अपने बाहर के पदार्थों को नष्ट करने या बाहर निकालने की क्षमता है और रोगजनकों से अपनी रक्षा करने में सक्षम होती है।

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को इम्युनिटी कहते हैं।

एक परपोषी की रोगजनक जीवों से लड़ने की क्षमता, जो प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा अर्जित की जाती है, प्रतिरक्षा कहलाती है।

लुई पाश्चर को इम्यूनोलॉजी का जनक कहा जाता है।

हालांकि कुछ अन्य लोग एमिल वॉन बेहरिंग को इम्यूनोलॉजी का जनक कहते हैं।

प्रतिरक्षा तंत्र [Immunity System]:-

कई अंग सभी प्रकार के रोगजनक जीवों यानी रोगाणुओं और प्रतिजनों के दुष्प्रभावों का विरोध करके हमारे शरीर में समस्थिति को बनाए रखने के लिए एक प्रणाली बनाते हैं, जिसे प्रतिरक्षा प्रणाली कहा जाता है।

 एडवर्ड जेनर को प्रतिरक्षा प्रणाली की खोज करने का श्रेय दिया जाता है।

Immunity System


प्रतिरक्षा के प्रकार [Types of immunity]:-

रोग प्रतिरोधक क्षमता दो प्रकार की होती है-

1. सहज प्रतिरक्षा (Innate immunity),

2. उपार्जित प्रतिरक्षा (Acquired Immunity)


1. सहज प्रतिरक्षा (Innate immunity):-

सहज या जन्मजात प्रतिरक्षा एक प्रकार की विशिष्ट प्रतिरक्षा है जो जन्म के समय से ही मौजूद होती है और जन्मजात होती है।

यह प्रतिरक्षा हमारे शरीर में बाहरी रोग कारकों के प्रवेश के खिलाफ विभिन्न प्रकार की बाधाओं को खड़ा करती है।

सहज या जन्मजात  प्रतिरक्षा बाहरी कारकों के खिलाफ चार प्रकार के प्रतिरोध पैदा करती है-

(A) भौतिक अवरोध (Physical barrier) -

हमारे शरीर की त्वचा और आंतरिक अंगों की श्लेष्मा झिल्ली सबसे पहले रोगाणुओं के प्रवेश के लिए एक बाधा के रूप में कार्य करती है।

पसीने की ग्रंथियों से स्रावित द्रव में लाइसोजाइम नामक एंजाइम पाया जाता है। यह कई जीवाणुओं की कोशिका भित्ति को नष्ट कर देता है।




त्वचा की केराटिन युक्त मृत कोशिकाएं समय-समय पर शरीर से अलग होती रहती हैं, जिससे शरीर से कीटाणु अलग होते रहते हैं।

श्वसन पथ के म्यूकोसा पर एक श्लेष्म परत (श्लेष्म) और सिलिया होती है। ये सभी हवा में मौजूद धूल के कणों और सूक्ष्म जीवों को फेफड़ों में प्रवेश नहीं करने देते हैं।

(B) शारीरिक अवरोध (Physiological barrier) -

पेट में एसिड, मुंह के लार में मौजूद लाइसोजाइम, आंखों के आंसू में मौजूद लाइसोजाइम, ये सभी रोगजनक के विकास को रोकते हैं।

(C)  कोशिकीय अवरोध (Cellular barrier)-

हमारे शरीर के रक्त में मौजूद ल्यूकोसाइट्स (मोनोसाइट्स, न्यूट्रोफिल) और ऊतकों में मौजूद मैक्रोफेज कोशिकाएं रोगाणुओं को खाकर शरीर की रक्षा करते हैं।

(D) साइटोकाइन अवरोध (Cytokine inhibition) -

वायरस से संक्रमित कोशिकाएं इंटरफेरॉन नामक प्रोटीन का स्राव करती हैं जो असंक्रमित कोशिकाओं को आगे के वायरल संक्रमण से बचाती हैं।

इंटरफेरॉन - इसकी खोज अस्कास और लिंडनमैन ने वर्ष 1957 में की थी। यह एक प्रकार का एंटीवायरल प्रोटीन अणु है जो वायरल संक्रमण के बाद शरीर की कोशिकाओं द्वारा संश्लेषित होता है।

इंटरफेरॉन का कार्य - यह वायरस के गुणन को रोकता है। यह असंक्रमित कोशिकाओं की सतह से बांधता है और विशिष्ट एंजाइमों के स्राव को प्रेरित करता है जो वायरल एमआरएनए को नष्ट करके वायरल प्रोटीन संश्लेषण को रोकते हैं। इंटरफेरॉन कोशिका के चयापचय में हस्तक्षेप नहीं करते हैं। वे मैक्रोफेज की खिला गतिविधि को भी बढ़ाते हैं।


2. उपार्जित प्रतिरक्षा या विशिष्ट प्रतिरक्षा (Acquired Immunity)-

 पर्यावरण में मौजूद रोगजनकों और प्रतिजनों द्वारा संक्रमण से बचने के लिए शरीर की प्रतिरक्षियों से अधिग्रहित प्रतिरक्षा को उपार्जित प्रतिरक्षा कहते हैं।

जब रोगाणु जन्मजात प्रतिरक्षा को पार कर जाते हैं और संक्रमण का कारण बनते हैं, तब उपार्जित प्रतिरक्षा रोगजनकों से लड़ने का कार्य करता है।

मनुष्यों में उपार्जित प्रतिरक्षा प्रणाली के प्रमुख भाग :-

इस प्रणाली में मानव लिम्फोइड अंग, लिम्फोइड ऊतक, कोशिकाएं और एंटीबॉडी शामिल हैं।

लसिकाभ अंग - ये वे अंग हैं जिनमें लिम्फोसाइटों का उत्पादन, परिपक्वता और प्रचुरोद्भवन होता है।

 

लसीका अंग दो प्रकार के होते हैं -

1. प्राथमिक लसीकाभ अंग - यहाँ लिम्फोसाइटों का निर्माण और परिपक्वन होता है। इसमें अस्थि मज्जा, और थाइमस शामिल हैं।

2. द्वितीयक लसिकाभ अंग - ये वे स्थान हैं जहां लिम्फोसाइट्स रोगाणुओं या प्रतिजनों के साथ परस्पर क्रिया करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उनका उत्पादन बहुतायत में होकर प्रमुख कोशिकाएं बन जाता है। इसमें प्लीहा, लिम्फ ग्रंथियां, लिम्फोइड ऊतक (श्लेष्मा से जुड़े लिम्फोइड ऊतक MALT), टॉन्सिल, छोटे आंत्र छिद्रों के पैच, अपेंडिक्स आदि शामिल हैं।

  उपार्जित प्रतिरक्षा की मुख्य कोशिकाएं लिम्फोसाइट्स हैं।




लिम्फोसाइट्स दो प्रकार के होते हैं -

1. बी लिम्फोसाइट्स (B  Lymphocytes),

2. टी लिम्फोसाइट्स (T  Lymphocytes)


   लसिकाभ ऊतक में परिपक्व होने वाले लिम्फोसाइट्स को बी-लिम्फोसाइट्स कहा जाता है।

   थाइमस ग्रंथि में परिपक्व होने वाले लिम्फोसाइट्स को टी-लिम्फोसाइट्स कहा जाता है।


उपार्जित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के प्रकार:-

यह दो प्रकार का होता है -

1. प्रतिरक्षी मध्यस्थ प्रतिरक्षा (Antibody-mediated immunity),

2. कोशिकीय मध्यस्थ प्रतिरक्षा (Cell-mediated immunity)


1. प्रतिरक्षी मध्यस्थ प्रतिरक्षा (Antibody-mediated immunity)-

  बी-लिम्फोसाइट्स प्रतिरक्षी मध्यस्थ प्रतिरक्षा के लिए जिम्मेदार हैं।

रोगजनकों के जवाब में, बी लिम्फोसाइट्स रोगजनकों से लड़ने के लिए हमारे रक्त में प्रोटीन की एक सेना का उत्पादन करते हैं। इन प्रोटीनों को प्रतिरक्षी कहते हैं जो दो प्रकार के होते हैं -

A-  कुछ लिम्फोसाइट्स सक्रिय हो जाते हैं और प्लाज्मा कोशिकाओं में विभेदित हो जाते हैं। ये एंटीबॉडी लसीका और रक्त तक पहुँचते हैं और विशिष्ट कीटाणुओं या उनके विषाक्त पदार्थों को नष्ट करते हैं। जब वे पहली बार रोगजनकों का सामना करते हैं, तो उनकी प्रतिक्रिया को प्राथमिक प्रतिक्रिया कहा जाता है।  यह आमतौर पर एक हल्की प्रतिक्रिया होती है।


B-  कुछ बी-लिम्फोसाइट्स लसीका ऊतक में स्मृति कोशिकाओं के रूप में संग्रहीत हो जाते हैं। जब शरीर में दोबारा वही संक्रमण होता है, तो ये कोशिकाएं अपने जैसी लाखों कोशिकाओं को बनाकर तेजी से एंटीबॉडी का उत्पादन शुरू कर देती हैं। इसे उच्च तीव्रता की द्वितीयक अनुक्रिया कहते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे शरीर में रोगजनकों के साथ पहली मुठभेड़ की स्मृति होती है।

प्रतिरक्षी (Antibody) निम्न प्रकार से कार्य करते हैं -

   एंटीबॉडी रोगाणुओं से चिपक जाते हैं और उनके चारों ओर एक आवरण बनाते हैं, जिससे रोगाणु दैहिक कोशिकाओं के प्लाज्मा झिल्ली से चिपकते नहीं हैं और नष्ट हो जाते हैं।

   एक एकल एंटीबॉडी कई रोगजनकों (एंटीजन) को बांधता है और उन्हें समूहों में एकत्र करता है। इन समूहों को बाद में मैक्रोफेज कोशिकाओं (न्यूट्रोफिल, मोनोसाइट्स) द्वारा नष्ट कर दिया जाता है।

   यह विलेय रोगाणुओं से बंध कर उन्हें अघुलनशील बनाकर नष्ट कर देता है।

   एंटीजन-एंटीबॉडी कॉम्प्लेक्स गैर-विशिष्ट प्रतिरक्षा प्रणाली के पूरक प्रोटीन अणुओं की एक श्रृंखला को सक्रिय करता है, ये प्रोटीन जीवाणु कोशिका के प्लाज्मा झिल्ली में रंध्र बनाते हैं, जिससे रोगाणु सूजकर फट जाते हैं और मर जाते हैं।

2. कोशिकीय मध्यस्थ प्रतिरक्षा (Cell-mediated immunity):-

   टी-लिम्फोसाइट्स कोशिका-मध्यस्थ प्रतिरक्षा में भाग लेते हैं।

टी-लिम्फोसाइट्स स्वयं एंटीबॉडी का स्राव नहीं करते हैं, लेकिन प्रोटीन के उत्पादन में बी-लिम्फोसाइटों की सहायता करते हैं।

 रोगाणुओं द्वारा निर्मित प्रतिजनों के संपर्क में आने पर टी-लिम्फोसाइट्स सक्रिय हो जाते हैं और माइटोसिस (अर्धसूत्री विभाजन) द्वारा अपनी संख्या बढ़ाते हैं और चार प्रकार के टी-लिम्फोसाइटों में परिवर्तित हो जाते हैं -




A-  Killer T-lymphocytes - ये कोशिकाएं सीधे हमला करके रोगाणु कोशिकाओं को नष्ट कर देती हैं।

B- Suppressor T-lymphocytes- ये कोशिकाएं संक्रमण खत्म होने के बाद शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली की गतिविधि को रोकती हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली को अपनी कोशिकाओं और विदेशी कोशिकाओं के बीच अंतर करना सिखाती हैं।
यही कारण है कि शरीर किसी अंग के प्रत्यारोपण को अस्वीकार कर देता है या अंग प्रत्यारोपण के बाद भी रोगी को जीवन भर इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवा लेनी पड़ती है।

C-  Helper T-lymphocytes-  ये कोशिकाएं ऐसे पदार्थों का स्राव करती हैं जो कि किलर टी-लिम्फोसाइटों और बी-लिम्फोसाइटों की गतिविधि को बढ़ाते हैं।

D-  Memory T-lymphocytes-   रोगाणुओं के संपर्क में आने वाली कुछ कोशिकाएं, संवेदनशील होने के बाद, लसीका ऊतक में जमा हो जाती हैं और उसी रोगाणु के साथ पुन: संक्रमण होने पर तुरंत सक्रिय हो जाती हैं।

  उपार्जित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को सक्रिय प्रतिरक्षा भी कहा जाता है। इसकी क्रिया धीमी होती है और प्रभावी प्रतिक्रिया दिखाने में कुछ समय लगता है। यह जीवन भर काम करता है। उदाहरण के लिए, एक बार चेचक हो जाने पर, चेचक के प्रति शरीर की अपनी प्रतिरोधक क्षमता होती है।

निष्क्रिय प्रतिरक्षा (Passive Immunity ):-

जब बाहर से बने बनाये एंटीबॉडी शरीर की रक्षा के लिए सीधे शरीर को दिए जाते हैं तो इसे पैसिव इम्युनिटी कहते हैं।
यह तुरंत कार्य करता है, लेकिन कुछ मामलों में, शरीर को अन्य कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ता है। इसका असर कुछ दिनों के लिए ही होता है। उदाहरण के लिए, काली खांसी, टेटनस, रेबीज, पोलियो आदि के खिलाफ टीकाकरण, नवजात को मां द्वारा प्राप्त कोलोस्ट्रम (IgA से भरपूर) निष्क्रिय प्रतिरक्षा के उदाहरण हैं।

Conclusion:-

 प्रतिरक्षा प्रणाली के बारे में मेरे द्वारा बनाया गया यह लेख रोचक जानकारियों को जानने वाले लोगों Biology के छात्रों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। अगर इसमें कुछ गड़बड़ी है, तो हमें कमेंट करके बताएं और इस website को follow अवश्य करें ! Thank You!

                  Donate us

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ

Please comment here for your response!
आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ? कृपया अपनी प्रतिक्रिया, सुझाव, प्रश्न और विचार नीचे Comment Box में लिखें !