Welcome !  Multi Useful Gyan Site पर आपका स्वागत है। आप यहां पर हिन्दू धर्म व अन्य धर्म विषयक और अनेक रोचक जानकारियां पायेंगे। अतः इस वेबसाइट को सब्सक्राइब (Subscribe) करें और Notification को ON/Allow भी करें !

Translator

Heart block: meaning, symptoms in hindi

                  Donate us

हार्ट ब्लॉक (Heart Block):-

आज इस पोस्ट में हर्ट ब्लॉक (Heart Block) के बारे में विस्तार से और आसान भाषा में वर्णन किया  जाएगा, जो हर बुद्धिमान व्यक्ति के लिए फायदेमंद साबित होगा।

कुछ लोग समझते हैं कि हार्ट ब्लॉक में हृदय तक रक्त ले जाने वाली धमनियां कोलेस्ट्रॉल के जमा होने या किसी अन्य कारण से अवरुद्ध हो जाती हैं और हृदय को रक्त न मिलने की स्थिति को हर्ट ब्लॉक (Heart Block) कहा जाता है; लेकिन ऐसा नहीं है और इसे Heart Block नहीं कहा जाता

Heart block



हर्ट ब्लॉक 
(Heart Block) में, हृदय (Heart) के अलिंद और निलय के बीच समन्वय में गड़बड़ी के कारण, दोनों का अलग-अलग धड़कना या अनियमित स्पंदन से अनियमित ब्लड सर्कुलेशन को हर्ट ब्लॉक (Heart Block) कहा जाता है।

इसमें, हिस के बंडल  में साइनस एट्रियल नोड या SA node से उत्पन्न होने वाले आवेग पूर्ण रूप से फैलकर निलयों में नहीं जा पाते हैं। 

यदि यह एक पूर्ण हृदय अवरोध  (Heart Block) होगा, तो निलय हर दूसरे या तीसरे आवेग से संकुचित होकर रूक जाते हैं। नाड़ी प्रति मिनट 30 से 35 बार चलती है।

पूर्ण हृदय अवरोध  (Heart Block) के मामले में, निलय का स्पंदन, अलिंद स्पंदन से पूरी तरह से स्वतंत्र हो जाता है और उनमें लयबद्धता नहीं होती है।

 हृदय को शरीर का एक स्वायत्त अंग माना जाता है, हालाँकि हार्मोनिक आवेग हृदय स्पंदन को प्रभावित करते हैं, लेकिन उनका दिल की धड़कन की शुरुआत से कोई लेना-देना नहीं होता है। तंत्रिका आवेग और हार्मोनिक आवेग केवल नाड़ी की दर को प्रभावित कर सकते हैं, और शरीर की आवश्यकता के अनुसार स्वायत्त तंत्रिका नियंत्रण द्वारा नाड़ी की दर और ब्लड प्रेशर को बढ़ाया या घटाया जा सकता है।

हृदय की दीवारों में कुछ विशेष प्रकार के तंतु होते हैं, इन तंतुओं में स्वयं को उत्तेजित करने की क्षमता होती है। हृद् प्रवाहकीय आवेग SA node द्वारा उत्पन्न होते हैं और हिश बंडल और AV node तक प्रेषित होते हैं और फिर हृद् पेशियों में पाये जाने वाले हिश बंडल से निकले पुर्किन्जे तन्तुओं के माध्यम से पूरे हृदय की मांसपेशियों में फैल जाते हैं, जो हृदय के संकुचन और शिथिलन के लिए जिम्मेदार होते हैं। हृदय सामान्य रूप से जीवन भर बिना थके 1 मिनट में 70 से 72 या 80 बार धड़कता है। इसलिए SA node को हृदय का पेसमेकर कहा जाता है।

जब किसी कारण बस SA node ठीक से काम नहीं कर पाता है, तो SA node और AV node के साथ हिस के बंडल का कनेक्शन बिगड़ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप हर्ट ब्लॉक (Heart Block) हो जाता है, यानी दिल का आलिंद स्पंदन से निलय स्पंदन का सामंजस्य बिगड़ जाता है और वे अनियमित रूप से स्पंदव करने लगते हैं।

निष्कर्ष -

तो अब आप लोग समझ ही गए होंगे कि हर्ट ब्लॉक  (Heart Block) क्या होता है। मुझे विश्वास है कि हर्ट ब्लॉक के बारे में लिखी गई यह पोस्ट निश्चित रूप से आप लोगों के लिए  ज्ञानवर्धक साबित होगी। 

Thank you!

                  Donate us

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ

Please comment here for your response!
आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ? कृपया अपनी प्रतिक्रिया, सुझाव, प्रश्न और विचार नीचे Comment Box में लिखें !