Welcome !  Multi Useful Gyan Site पर आपका स्वागत है। आप यहां पर हिन्दू धर्म व अन्य धर्म विषयक और अनेक रोचक जानकारियां पायेंगे। अतः इस वेबसाइट को सब्सक्राइब (Subscribe) करें और Notification को ON/Allow भी करें !

Translator

Walking rules in winter: Winter fitness, डिनर के बाद मत टहलें

                  Donate us

Rules for walking in cold weather (winter):-

प्रिय मित्रों ! क्या आपको पता है कि सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद टहलना चाहिए ?  इसका सीधा सा उत्तर है - नहीं ! सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद क्यों नहीं टहलना चहिये, इसका वर्णन मैं यहाँ पर कर रहा हूँ --

अगर आप सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद टहलते हैं तो सर्दियों में इस आदत को बदल दें। नहीं तो, हो सकती है कि आपकी यह आदत आपके लिए ही जानलेवा साबित हो जाए। 

Walking rules

सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद टहलना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है, और आप लकवा और स्ट्रोक के शिकार हो सकते हैं। जिसे आमतौर पर फालिज भी कहते हैं।

 सर्दियों के मौसम में डिनर के बाद ठण्ड में टहलने शरीर में ब्लड सर्कुलेशन घट जाता है, और ऐसे में स्ट्रोक होने की संभावना अधिक बढ़ जाती है। सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद टहलना डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए खतरा ज्यादा होता है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि खाना पचाने के लिए अधिक खून की आवश्यकता होती है, और पाचन क्रिया शुरू हो जाने के दौरान पाचन तंत्र के अंगों को छोड़कर शरीर के दूसरे अन्य हिस्सों में खून की सप्लाई कम हो जाती है, इसलिए शरीर का तापमान कम हो जाता है। सर्दियों के मौसम में डिनर के बाद ठंड में टहलने से शरीर का तापमान और अधिक तेजी से गिरता है, जिससे स्ट्रोक और हर्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है।

ठण्ड में टहलने से हुई बीमारियों के लक्षण:-

1. अचानक मुॅंह का टेढ़ा हो जाना।

2. मुॅंह से आवाज न निकलना या आवाज का जाना ।

3. शरीर के किसी हिस्से में लकवा मार जाना अथवा पूरे शरीर का काम ना करना ।

4. बेहोशी या कोमा की स्थिति में चले जाना। 

ठण्ड में टहलने से हुई बीमारियों के कारण:-

प्रायः सर्दियों के मौसम में ठंड की वजह से शरीर की नसें सिकुड़ जाती हैं, जिससे उनमें खून का बहाव अच्छी तरह नहीं हो पाता है और शरीर के कई अंगों में आक्सीजन की कमी होने लगती है। अतः आक्सीजन की पूर्ति के लिए शरीर का आटोमैटिक सिस्टम ब्लड - प्रेशर को बढाने लगता है, और जब ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है तब नसों पर दबाव पड़ने लगता है, जिससे शरीर की कमजोर नस फट सकती है , और इससे स्ट्रोक पड़ जाता है तथा शरीर लकवा ग्रस्त हो जाता है। 

इस समस्या का खतरा 50 से 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को ज्यादा रहता है, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ ही शरीर की नसें कमजोर और कड़ी हो जाती हैं तथा नसों का लचीलापन बहुत कम हो जाता है।

धूम्रपान और शराब के सेवन यह समस्या और भी बढ़ जाती है।

ठण्ड के मौसम में क्या करें:-

1. पौष्टिक और गर्म प्रकृति के भोजन का सेवन करें और रात में सादा और खाना खाएं। 

2. अगर आप डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के रोगी हैं तो उसे कंट्रोल में रखें।

3. अधिक उम्र के लोग जाड़े में सूर्य की धूप में मालिश और हल्का-फुल्का व्यायाम करें।

4. बाइक चलाते समय बाइकसवार गर्म कपड़ों का पूरा ध्यान रखें, क्योंकि बाइक चलाते समय शरीर पर ठण्ड का बहुत तेज असर पड़ता है।

5. अधिक उम्र और छोटे बच्चों को ठण्ड से बचा कर रखें।

ठण्ड के मौसम में क्या करें:-

1. सर्दियों के मौसम में रात को भोजन करने के बाद मत टहलें।
2. डायबिटिज के रोगी ठण्ड से बचने के लिए अलाव का प्रयोग न करके गर्म कपड़ों और बिस्तर का प्रयोग करें ।

धन्यवाद मित्रों ! आपको हमारा यह सुझाव कैसा लगा ? कृपया कमेंट करके अवश्य बताएं और हमें विश्वास है कि आप हमारे इस सुझाव  का पालन करेंगे और स्वस्थ रहेंगे।

                  Donate us

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

Please comment here for your response!
आपको हमारा यह लेख कैसा लगा ? कृपया अपनी प्रतिक्रिया, सुझाव, प्रश्न और विचार नीचे Comment Box में लिखें !